Trilok Singh September 16, 2017

त्रिलोक सिंह, केन्द्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने आज कहा कि देश के निर्माण में इंजीनियरों की भूमिका महत्वपूर्ण रही है और वे अपने अभिनव तरीकों से आम जनता का जीवन बेहतर बनाने के साथ ही ‘ नये भारत’ के निर्माण में अहम भूमिका निभा सकते हैं।

नकवी ने इंस्टीट्यूशन ऑफ सिविल इंजीनियर्स (इंडिया) द्वारा इंजीनियर्स दिवस पर यहां आयोजित सेमिनार में कहा कि इंजीनियरों ने अपनी सृजनात्मक सोच और कड़ी मेहनत से राष्ट्र के निर्माण में अहम भूमिका निभाई है और देश और समाज को तकनीक के क्षेत्र में एक नयी दिशा दिखाने का काम किया है। उन्होंने कहा कि इंजीनियरों, डॉक्टरों और अन्य पेशेवरों की समाज के प्रति एक बड़ी जिम्मेदारी बनती है और इस दिशा में इंजीनियर नये नये तरीकों से आम जनता के जीवन को बेहतर बनाने और ‘नया भारत’ के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।

नकवी ने कहा कि मोदी सरकार देश के संसाधनों का इस्तेमाल प्रौद्योगिकी के माध्यम से गरीबों, कमजोर तबकों के सशक्तिकरण एवं ‘नये भारत’ के निर्माण के लिए कर रही है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस संकल्प में समाज के हर तबके और सभी क्षेत्रों के पेशेवरों की बड़ी भूमिका है। उन्होंने प्रौद्योगिकी को रूपांतरण का उपकरण बताते हुए कहा कि भारतीय प्रौद्योगिकी और प्रौद्योगिकीविद् दुनिया में सबसे बेहतर हैं। चाहे वह रक्षा क्षेत्र हो, बुनियादी ढांचा, रेलवे हो या अंतरिक्ष विज्ञान , देश के इंजीनियरों ने पूरी दुनिया में अपना परचम फहराया है।

सूत्र : PIB

श्री मुख्तार अब्बास नकवी “इंजीनियर्स दिवस” के अवसर पर “सामाजिक इंजीनियरिंग के माध्यम से अवसर बढ़ाना” विषय पर राष्ट्रीय संगोष्ठी को संबोधित किया

प्रौद्योगिकी परिवर्तन का एक माध्यम है: श्री नकवी

केन्द्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री श्री मुख्तार अब्बास नकवी ने आज यहां कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार, गरीबों और कमजोर वर्गों के कल्याण के लिए नवीनतम प्रौद्योगिकी के माध्यम से देश के संसाधनों का उपयोग कर रही है और “न्यू इंडिया” की अवधारणा को पूरा करने का प्रयास कर रही है।

“इंजीनियर्स दिवस” के अवसर पर नई दिल्ली में सिविल इंजीनियर्स संस्थान (भारत) द्वारा “सामाजिक इंजीनियरिंग के माध्यम से अवसर बढ़ाना” विषय पर आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी को संबोधित करते हुए श्री नकवी ने कहा कि “प्रौद्योगिकी परिवर्तन का एक माध्यम है”।

श्री नकवी ने कहा कि भारतीय प्रौद्योगिकी और टेक्नोक्रेट दुनिया के सर्वश्रेष्ठ विशेषज्ञों में से एक हैं। रक्षा क्षेत्र, बुनियादी ढांचा, रेलवे, अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी, भारतीय इंजीनियरों और अन्य टेक्नोक्रेटों ने अपनी प्रतिभाओं के माध्यम से देश को गौरवान्वित किया है।

मंत्री ने कहा कि सरकार ने टेक्नोक्रेट्स और अन्य पेशेवरों के लिए “जीवंत और सकारात्मक वातावरण” तैयार किया है। उन्होंने कहा कि केंद्र विभिन्न प्रौद्योगिकी का उपयोग तेजी से कर रहा है ताकि लोगों के जीवन को और अधिक आरामदायक बनाया जा सके। प्रौद्योगिकी के माध्यम से, हमने शासन और आम लोगों के बीच अंतर को भर दिया है।

श्री नकवी ने कहा कि सरकार आम आदमी के कल्याण के लिए “मजबूत” और पारदर्शी प्रणाली सुनिश्चित करने के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग कर रही है। भारत “डिजिटल अर्थव्यवस्था” बनने की ओर बढ़ रहा है। आम लोगों के कल्याण का पैसा “डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर” (डीबीटी) के माध्यम से सीधे बैंक खातों में जा रहा है। करोड़ छात्रों को अपने छात्रवृत्ति की राशि डीबीटी के माध्यम से सीधे उनके बैंक खातों में मिल रहा है।

मंत्री ने कहा कि राष्ट्र निर्माण में इंजीनियर महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। वे अपनी रचनात्मक सोच और समर्पण तथा कड़ी मेहनत के जरिए, देश को एक नई दिशा भी दे रहे हैं।

श्री नकवी ने कहा कि केंद्र ने टेक्नोक्रेट्स और अन्य पेशेवरों के लिए बेहतर वातावरण सुनिश्चित किया है। वे भारत वापस आ रहे हैं और “न्यू इंडिया” के दर्शन में योगदान दे रहे हैं।