राम रहीम मामले में अमित शाह के बयान का अदालत ले संज्ञानः कांग्रेस - YOUTH DARPAN
राम रहीम मामले में अमित शाह के बयान का अदालत ले संज्ञानः कांग्रेस

राम रहीम मामले में अमित शाह के बयान का अदालत ले संज्ञानः कांग्रेस

कांग्रेस ने मंगलवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने एक बयान में गुरमीत राम रहीम मामले को लेकर हरियाणा में हुई हिंसा की घटनाओं के लिए न्यायाधीशों को जिम्मेदार बताया है जो ‘भीडतंत्र से न्यायतंत्र को धमकाने की कोशिश’ है और पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय को इस सम्बन्ध में प्रकाशित खबर का स्वत:संज्ञान लेकर सचाई की तह तक जाना चाहिए। कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने यहां पार्टी मुख्यालय में आयोजित प्रेस ब्रीफिंग में कहा कि एक अखबार की खबर के अनुसार शाह ने बलात्कार के दोषी डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम को अदालत द्वारा दोषी ठहराये जाने पर हरियाणा और उसके आसपास के क्षेत्रों में हिंसा के लिए न्यायाधीशों को जिम्मेदार बताया था और कहा था कि न्यायाधीशों को पंचकूला में डेरा प्रमुख के लाखों समर्थकों की उन्मादी भीड़ को देखते हुए या तो फैसले की तिथि आगे बढानी चाहिए थी या फैसले की जगह बदलने को कहा था।

तिवारी ने कहा कि भाजपा और शाह ने अभी तक इस खबर का खंडन नहीं किया है और अखबार अपनी खबर पर अडिग है। उन्होंने कहा कि यदि यह खबर सही है तो इससे कई गंभीर सवाल खडे होते है। क्या न्यायपालिका पर दबाव बनाने और उसे धमकाने के लिए सुनियोजित तरीके से भीड़ को इकट्ठा होने दिया गया और क्या भाजपा एवं हरियाणा सरकार का शीर्ष नेतृत्व इस साजिश में शामिल था। भाजपा पर हमला करते हुए प्रवक्ता ने कहा कि यह भीड़तंत्र से न्यायतंत्र काे धमकाने की कोशिश है जो फासीवाद का सबसे खराब स्वरूप है और भारतीय लोकतंत्र पर इसके गंभीर दुष्परिणाम होंगे । उन्होंने इस मामले की सुनवाई कर रहे उच्च न्यायालय से इस खबर का संज्ञान लेकर सच्चाई की तह तक जाने का अनुरोध किया। प्रधानमंत्री और हरियाणा के मुख्यमंत्री पर न्यायालय की सख्त टिप्पणी से जुडे सवाल पर प्रवक्ता ने कहा कि पहले जब भी अदालत की इसतरह की टिप्पणियां आयी हैं उन्हें गंभीरता से लिया गया है। इन टिप्पणियों के बाद हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को तत्काल इस्तीफा दे देना चाहिए था लेकिन इस सरकार में रत्ती भर भी नैतिकता और प्रधानमंत्री में संवेदनशीलता नहीं है।

Youth Darpan

Founder and CEO, Trilok Singh. MA. POL.SCI (2015-17). CEO/Owner at IASmind.com

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account