in

छोटी कंपनियों के आईपीओ ने निवेशकों को किया मालामाल

गुरुवार को स्टॉक मार्केट में शानदार लिस्टिंग हुई है। इस लिस्टिंग के साथ साल 2017-18 में अब तक आए आईपीओ (इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग) में से 60 फीसदी ने निवेशकों को प्रॉफिट कराया है। इसमें से भी छोटी कंपनियों के इश्यू ने निवेशकों को सबसे ज्यादा मालामाल किया है। अप्रैल से अक्टूबर के दौरान लिस्ट हुई कंपनियों ने निवेशकों को 167 फीसदी तक का रिटर्न दिया है। इनमें मार्केट कैप के हिसाब से नए लिस्ट हुई कंपनियों में सबसे छोटी कंपनी ने निवेशकों को सबसे ज्यादा रिटर्न दिया है।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, इस फाइनेंशियल ईयर में अब तक 19 कंपनियां मार्केट में लिस्ट हुई हैं। इनमें से 12 कंपनियों का मार्केट कैप शुक्रवार तक 5 हजार करोड़ रुपए से कम पर बंद हुआ है। नई लिस्ट हुई कंपनियों में सबसे कम मार्केट कैप सलासर टेक्नो इंजीनयिरिंग का है। हालांकि लिस्टिंग के बाद रिटर्न देने के मामले कंपनी सबसे आगे है। जुलाई के अंत में लिस्ट हुई कंपनी अपने इश्यू प्राइस के मुकाबले अब तक 167 फीसदी बढ़ चुकी है। तेज बढ़त के बाद भी कंपनी का मार्केट कैप 500 करोड़ रुपए से नीचे है। वहीं 5000 करोड़ रुपए के मार्केट कैप से नीचे वाली 12 नई कंपनियों में से 8 कंपनियों का रिटर्न पॉजिटिव रहा है। इसमें से भी सीडीएसएल 140 फीसदी, पीएसपी प्रोजेक्ट्स 71 फीसदी बढ़ा है। डिक्सन टेक्नोलॉजी में 50 फीसदी से ज्यादा बढ़त रही हैं। वहीं इन कंपनियों में सबसे ज्यादा गिरावट एस चांद एंड कंपनी में देखने को मिली है। स्टॉक पिछले 6 महीने में एक तिहाई नुकसान के साथ ट्रेड कर रहा है। 2017-18 में लिस्ट हुई 7 कंपनियों का मार्केट कैप फिलहाल 5 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा है। इसमें 4 कंपनियां ही निवेशकों को पॉजिटिव रिटर्न देने में सफल रही हैं। 17 हजार करोड़ से ज्यादा के मार्केट कैप का एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक 10 जुलाई को अपनी लिस्टिंग के बाद अब तक 57 फीसदी बढ़ चुका है। बड़ी कंपनियों में इसी स्टॉक में निवेशकों को 50 फीसदी से ज्यादा का रिटर्न मिला है। वहीं एसबीआई लाइफ इस फाइनेंशियल ईयर में अब तक सबसे बड़ी नई लिस्टिंग हैं।

Written by Youth Darpan

An Leading Online News And Community Writing Platform. Founder and CEO, Mr. Trilok Singh.

Skill development is an important area in which NGOs and voluntary bodies must work: Vice President

करवा चौथ से पहले उजड़ा सुहाग