क्षेत्र में सर्वांगीण विकास करेगा भारतीय रेल : श्री सदानन्द गौड़ा

मंत्री महोदय ने मेघालय में एमपीएलएडीएस के कार्यान्‍वयन की सराहना की

क्षेत्र के विकास हेतु आवश्‍यक समर्थन प्रदान करने के लिए केंद्र सरकार प्रतिबद्ध

केन्द्रीय सांख्‍यिकी और कार्यक्रम कार्यान्‍वयन मंत्री श्री डी.वी. सदानंद गौड़ा ने मेघालय में संसद सदस्‍य क्षेत्रीय विकास योजना (एमपीएलएडीएस) के उपयोग पर संतोष व्‍यक्‍त किया। शिलांग की अपनी दो दिवसीय यात्रा पर गए मंत्री महोदय ने आज मेघालय में चल रहे सांख्‍यिकी सशक्‍तिकरण के लिए समर्थन (एसएसएस) योजना, एमपीएलएडी योजना के क्रियान्‍वयन की स्‍थिति तथा 150 करोड़ रुपये से अधिक लागत वाले केंद्रीय आधारभूत परियोजनाओं की समीक्षा की। ये योजनाएं भारतीय रेल तथा केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों द्वारा चलाई जा रही है। मंत्री महोदय ने मेघालय के मुख्‍यमंत्री डॉ. मुकुल संगमा से मुलाकात की और राज्‍य की विकास परियोजनाओं पर चर्चा की।

बर्नीहाट से शिलांग तक की नई बी. जी. रेलवे लाईन निर्माण की समीक्षा करने के पश्‍चात मंत्री महोदय ने कहा कि रेलवे मेघालय में युवाओं के लिए बड़ी संख्‍या में रोजगार उपलब्‍ध कराएगा। इस रेलवे लाईन को रेल बजट 2010-11 में राष्‍ट्रीय परियोजना का दर्जा दिया गया था। मंत्री महोदय ने कहा कि इस परियोजना से रोजगार सृजन के अलावा पर्यटन को भी अत्‍यधिक बढ़ावा मिलेगा। मंत्री महोदय ने परियोजना में देरी के प्रति चिंता व्‍यक्‍त की। बाद में प्रेस को संबोधित करते हुए उन्‍होंने कहा कि रेलवे के लिए इस क्षेत्र में विकास की असीम संभावनाएं हैं और परियोजना से संबंधित सभी अवरोधों को दूर कर लिया जाएगा।

सांख्‍यिकी सशक्‍तिकरण के लिए समर्थन (एसएसएस) योजना की समीक्षा करने के पश्‍चात मंत्री महोदय ने जानकारी देते हुए कहा कि यह योजना राज्‍य में सांख्‍यिकी प्रणालियों को बेहतर बनाने के लिए लागू की गई है ताकि राज्‍य सटीक, विश्‍वसनीय और समय पर डेटा प्राप्‍त कर सके। राज्‍य सांख्‍यिकी प्रणालियों को मजबूत बनाने के लिए उनका मंत्रालय राज्य सरकार को आवश्‍यक धन उपलब्‍ध करा रहा है और यह योजना मेघालय में भी जल्‍द ही शुरू की जाएगी।

मंत्री महोदय ने राज्‍य में एमपीएलएडी कोष के 95 प्रतिशत उपयोग के प्रति संतोष व्‍यक्‍त किया। उन्‍होंने कहा कि उपयोगिता प्रमाण-पत्रों को सही समय पर जमा कराने के पश्‍चात ही शेष कोष जारी किए जाएंगे। उन्‍होंने जिला प्रशासन से आग्रह किया कि वे एमपीएलएडीएस पोर्टल का उपयोग करें और इसे अपडेट करने में निरंतरता बनाए रखें।

मंत्री महोदय ने जानकारी देते हुए कहा कि मेघलय में 150 करोड़ रुपये से ज्‍यादा की लागत वाली 6 केंद्रीय परियोजनाएं चल रही हैं। इन 6 परियोजनाओं की कुल मूल लागत 7108.02 करोड़ रुपये थी और अनुमानित पूर्णता लागत 9025.00 करोड़ रुपये है। इसका मतलब है कि 1916.98 करोड़ रुपये लागत से ज्‍यादा खर्च किए जाएंगे। मंत्री महोदय ने संबंधित अधिकारियों से अनुरोध किया कि वे परियोजनाओं को समय के अनुसार पूरा करें।

मंत्री श्री गौड़ा ने एनईआईजीएचआरआईएमएस के निर्माण कार्यों की भी समीक्षा की और अधिकारियों से इसमें तेजी लाने का आग्रह किया। राष्‍ट्रीय राजमार्ग 44 के शिलांग-नोंगट्वाइन खंड और एसएआरडीपी-एनई के फेज – ए के तहत नोंगट्वाइन-रोंगजिएंग-तुरा के दोहरीकरण की समीक्षा करने के पश्‍चात मंत्री महोदय ने कहा कि वन विभाग और मेघालय सरकार को पीडब्‍ल्‍यूडी द्वारा जमा किए गए वन मंजूरी आग्रह को जल्‍द से जल्‍द निपटाना चाहिए ताकि परियोजना में और देरी न हो। उन्‍होंने री-भोई जिले में उम्‍सनिंग बाईपास निर्माण में देरी को लेकर चिंता व्‍यक्‍त की और एनएचएआई अधिकारियों से प्रक्रिया में तेजी लाने का आग्रह किया।

मंत्री श्री गौड़ा ने प्रेस को जानकारी देते हुए कहा कि शिलांग में इंटरनेशनल सेंटर फॉर परफॉर्मिंग आर्ट्स एंड कल्‍चर का निर्माण कार्य समय से चल रहा है। इसका कार्यान्‍वयन हिंदुस्‍तान स्‍टीलवर्क्स कंस्‍ट्रक्‍शन लिमिटेड (एचएसएलसी) द्वारा किया जा रहा है।

मंत्री महोदय ने कहा कि उसकी यात्रा का उद्देश्‍य प्रधानमंत्री की एक्‍ट ईस्‍ट पॉलिसी के अनुरूप है। उन्‍होंने कहा कि केंद्रीय सरकार उत्‍तरपूर्वी राज्‍यों के विकास के लिए सभी तरह की सहायता उपलब्‍ध कराने तथा परियोजनाओं की समयबद्ध पूर्णता सुनिश्‍चित करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्‍होंने कहा कि वे मेघलय सरकार के मुख्‍य सचिव से अनुरोध करेंगे कि वे केंद्रीय परियोजनाओं के संबंध में सेंट्रल सेक्‍टर प्रोजेक्‍ट कोऑडिनेशन कमिटी (सीएसपीसीसी) के साथ नियमित बैठकें करे और परियोजनाओं को पूरा करने में आने वाली समस्‍याओं का समाधान करे। उन्‍होंने अपनी बात को समाप्‍त करते हुए कहा, ‘मुझे उम्‍मीद है कि मेरी यात्रा से मेघालय की विकास परियोजनाओं को तेजी से पूरा करने में सहायता मिलेगी’।

बैठक में संसद सदस्‍य श्री कोंडराड संगमा (लोकसभा) और श्रीमती वांगसुक सिएम (राज्‍य सभा), मेघालय सरकार, रेलवे, एचएससीसी, एनएचएआई और एनईआईजीएचआरएमएस के वरिष्‍ठ अधिकारियों ने भी हिस्‍सा लिया।

About Youth Darpan

FOUNDER AND CEO OF YD, TRILOK SINGH. MA. POLITICAL SCIENCE, KIRORI MAL COLLEGE, DU (2015-17). CEO/OWNER IASmind.COM. VSSKK, AN NATIONAL LEVEL, NGO. IT AND SECURITY SEVA A2Z, SHOPPING MALL 12DECTRILOK.ORG.IN.
View all posts by Youth Darpan →